पराली जलाने से रोकने के लिए पंचायतें आगे आएं, किसानों को जागरूक करें




डीसी पठानकोट रामवीर ने पराली जलाने का मामला सामने आने पर प्रशासनिक अधिकारियों को कार्रवाई के आदेश दिए हैं। गांव की पंचायतों को आगे आने की अपील करते डीसी ने कहा कि वातावरण की शुद्धता बरकरार रखने के लिए कोई भी किसान धान की पराली व अवशेष न जलाए। पराली जलाने के साथ पैदा होते धुएं के कारण वातावरण प्रदूषित होता है, इससे कई तरह की गंभीर बीमारियां पैदा होती हैं। उन्होंने कहा कि पराली न जलाने वाली पंचायतों को सम्मानित भी किया जाएगा।

डीसी रामवीर ने तहसीलदारों, नायब तहसीलदारों, कृषि विभाग और पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के अधिकारियों को निर्देश दिए कि जिले में पूरी गंभीरता के साथ ध्यान दिया जाए। थानों के एसएचओ की तरफ से भी पूरी गंभीरता के साथ नजर रखी जाए। डीसी ने कहा कि जिले में पराली न जलाने के लिए जागरूकता मुहिम चलाई जा रही है और केस सामने आने पर कार्रवाई भी की जाती है। जिले में सेक्टर अफसरों के अलावा कोऑर्डिनेटिंग अफसर भी नियुक्त किए गए हैं। एसडीएम को भी निर्देश दिए कि संबंधित सब -डिविजन में यह यकीनी बनाया जाए कि किसान धान की पराली को आग न लगाने और ऐसे मामले सामने आने पर नियमों मुताबिक कार्रवाई की जाए।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today