भारत ने आरसीईपी पर दस्तखत से इनकार किया, कहा- यह समझौता देश के हितों के खिलाफ



बैंकॉक.भारत ने सोमवार को दक्षिण-पूर्वी और पूर्व एशिया के 16 देशों के बीच मुक्त व्यापार व्यवस्था के लिए प्रस्तावित क्षेत्रीय समग्र आर्थिक साझेदारी (आरसीईपी) समझौते पर हस्ताक्षर करने से इनकार कर दिया। भारत ने कहा कि यह समझौता देश के लाखों लोगों के जीवन और आजीविका के लिए प्रतिकूल है।यह जानकारी विदेश मंत्रालय में सचिव (पूर्व) विजय ठाकुर सिंह ने दी।

सचिव ठाकुर नेकहा- भारत ने शिखर बैठक में इस समझौते पर हस्ताक्षर नहीं करने केनिर्णय की जानकारी दे दी है। यह निर्णय मौजूदा वैश्विक परिस्थिति औरसमझौते की निष्पक्षता और संतुलन दोनों के आकलन के बाद लिया गया है। इस बैठक में भारत द्वारा उठाए गए मुख्य मुद्दों का कोई समाधान नहीं निकल सका है। समझौते के प्रावधान देश के नागरिकों के हितों के प्रतिकूल हैं। वर्तमान परिस्थितियों में भारत आरसीईपी में शामिल नहीं हो रहा है।

14वें ईस्ट एशिया शिखर सम्मेलन में शामिल हुए प्रधानमंत्री मोदी

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी थाईलैंड दौरे के तीसरे दिन सोमवार को 14वें ईस्ट एशिया शिखर सम्मेलन में शामिल हुए। मोदी ने म्यांमार की स्टेट काउंसलर आंग सान सू की से कहा कि दो देशों के बीच द्विपक्षीय साझेदारी के लिए सीमाओं पर शांतिबेहद अहम होतीहै। मोदी ने भारत-म्यांमार सीमा पर ऑपरेट कर रहे विद्रोही दलों के खिलाफ अभियान में म्यांमार से सहयोग की उम्मीद भी की।

मोदी ने कहा- किसानों, पेशेवरों एवं उद्योगपतियों की ऐसे निर्णयों में हिस्सेदारी

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- देश के किसानों, पेशेवरों एवं उद्योगपतियों की ऐसे निर्णयों में हिस्सेदारी होती है। कामगार एवं उपभोक्ता भी उतने ही महत्वपूर्ण होते हैं जो भारत को एक बड़ा बाजार और क्रयशक्ति के आधार पर तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनाते हैं।

DBApp

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


ईस्ट एशिया समिट के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी।


Bangkok: PM Modi attend RCEP Summit 14th East Asia summit


Bangkok: PM Modi attend RCEP Summit 14th East Asia summit


Bangkok: PM Modi attend RCEP Summit 14th East Asia summit