सुप्रीम कोर्ट ने कहा- लोग मर रहे हैं, क्योंकि जिम्मेदार लोगों की दिलचस्पी सिर्फ तिकड़मबाजी में है



नई दिल्ली.दिल्ली-एनसीआर में बढ़ते प्रदूषण को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को राज्य और केंद्र सरकारों पर तल्ख टिप्पणियां कीं। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि लोग मर रहे हैं और ज्यादा लोग मारे जाएंगे, लेकिन शासन में बैठे लोग केवल तिकड़मबाजी में दिलचस्पी रखते हैं। सुप्रीम कोर्ट ने निर्देश दिए कि निर्माण कार्य, तोड़फोड़ पर लगाप्रतिबंध तोड़ने वालों पर एक लाख रु. और कचरा जलाने वालों पर 5 हजार रु.जुर्माना लगाया जाए। नगर निगम खुले में कूड़ा डालने पर भी नजर रखें। दिल्ली और केंद्र सरकार एक-दूसरे पर आरोप लगाने की बजाय तुरंत कदम उठाएं।अदालत ने 6 नवंबर को उत्तर प्रदेश, हरियाणा और पंजाब के मुख्य सचिवों को तलब किया है।

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को निर्देश दिए कि 30 मिनट के भीतर पर्यावरण विशेषज्ञों को कोर्ट में बुलाया जाए। दिल्ली-एनसीआर में सोमवार को भी हवा की गुणवत्ता में सुधार नजर नहीं आया। गुड़गांव में एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआई) 800 से ज्यादा दर्ज हुआ। यह सीजन में सबसे अधिक है।इस मुद्दे पर एनजीटी ने दिल्ली के मुख्य सचिव, दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति के अध्यक्ष, केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के सचिव, वन विभाग, जलवायु परिवर्तन और पर्यावरण मंत्रालय के संयुक्त सचिवों को तलब किया है।

बेंच ने कहा- राज्य सरकारों की दिलचस्पी चुनावों में है, वे हर बात का मजाक बना रहे

  • जस्टिस अरुण मिश्रा और जस्टिस दीपक गुप्ता की बेंच ने दिल्ली सरकार से पूछा- डीजल वाहनों पर प्रतिबंध समझ आता है, लेकिन ऑड-ईवन स्कीम के पीछे क्या तुक है? प्रदूषण की वजह से लोग जिंदगी के बेशकीमती साल खो रहे हैं, प्रशासन ने उन्हें मरने के लिए छोड़ दिया।
  • बेंच ने कहा- अब इस मामले को हम देखेंगे। पराली जलाने को तुरंत रोका जाए, सभी राज्य इसे रोकने के लिए जरूरी कदम उठाएं। राज्य सरकारें इसके लिए जिम्मेदार हैं। इनकी दिलचस्पी केवल चुनावों में है, ये हर चीज का मजाक बना रहे हैं। हम अब ऊपर से लेकर नीचे तकइन्हें जिम्मेवार ठहराने जा रहे हैं।
  • “दिल्ली के लुटियंस में कोई बेडरूम है तो वहां भी एक्यूआई 500 से ज्यादा है। यहां एयर प्यूरीफायर काम नहीं कर सकते, क्या हम इस तरह से जिंदा रह सकते हैं? हम इस तरीके से जिंदा नहीं रह सकते। प्रशासन ने लोगों को मरने के लिए छोड़ दिया है।”
  • बेंच ने कहा- हर साल दिल्ली का दम घुट जाता है, हम कुछ नहीं कर पाते। सवाल ये है कि यह हर साल हो रहा है। एक सभ्य देश में ऐसा नहीं होना चाहिए। हर साल इतनी ज्यादा पराली क्यों जलाई जाती है? हर साल रोना-पीटना मचता है। राज्य इस बारे में जानते हैं, लेकिन वह मामले को सुलझा नहीं रहे हैं।
  • सुप्रीम कोर्ट ने कहा- स्थिति गंभीर है। केंद्र और दिल्ली की सरकार होने के तौर पर आपका रुख क्या है? आप प्रदूषण कम करने के लिए क्या करना चाहते हैं? केंद्र को कुछ करना चाहिए। राज्य को कुछ करना चाहिए। यह बहुत ज्यादा है। इस शहर में रहने के लिए कोई कमरा सुरक्षित नहीं है। लोग घरों में भी सुरक्षित नहीं हैं।
  • अदालत ने निर्देश दिए- दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश में बिजली कटौती पूरी तरह बंद की जाए, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि डीजल जेनेरेटरों का इस्तेमाल नहीं हो रहा है। राज्यों की उच्चस्तरीय समिति आज ही बैठक करे और 6 नवंबर तक हमें रिपोर्ट सौंपे।
  • बेंच ने कहा- दिल्ली सरकार हमें इस बात के आंकड़े या दस्तावेज शुक्रवार तक पेश करे कि ऑड-ईवन योजना से प्रदूषण कम हुआ है, जबकि सड़कों पर ऑटो और टैक्सी तो अभी भी चल रहे हैं।

प्रधान सचिव मिश्रा ने पंजाब-हरियाणा से रिपोर्ट मांगी

प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने पंजाब और हरियाणा से पराली जलाने पर नियंत्रण के उपायों की जानकारी मांगी है। प्रधान सचिव पीके मिश्रा ने दोनों राज्यों से पिछले 24 घंटों में इस पर हुई कार्रवाई पर रिपोर्ट फाइल करने को भी कहा है। रविवार को पीएमओ ने संबंधित राज्यों को प्रदूषण को रोकने के लिए जरूरी कदम उठाने को कहा था।

रविवार को विजिबिलिटी (दृश्यता) काफी कम थी

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मुताबिक, सोमवार को लोधी रोड में प्रदूषण कारण कण पीएम 2.5 का स्तर 703, दिल्ली विश्वविद्यालय में 695 और धीरपुर में 676 रहा। वहीं, एक्यूआई आनंद विहार में 491 और आईटीओ में 434 रिकॉर्ड हुआ, जो प्रदूषण की गंभीर स्थिति है। रविवार कोज्यादातर इलाकों में विजिबिलिटी (दृश्यता) काफी कम थी। दिल्ली एयरपोर्ट पर खराब मौसम और लो विजिबिलिटी के कारण विमान सेवाओं पर असर पड़ा। टर्मिनल-3 से 37 फ्लाइट्स को जयपुर, अमृतसर और लखनऊ डायवर्ट करना पड़ा था।

दिल्ली में हेल्थ इमरजेंसी, 50 लाख मास्क बांटे गएदिल्ली-एनसीआरके सभी स्कूल 5 नवंबर तक बंद रहेंगे और सभी तरह के निर्माण कार्यों पर प्रतिबंध लागू है। दिल्ली-एनसीआर में पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी घोषित की गई है। सर्दी के मौसम में पटाखे जलाने पर पूरी तरह रोक रहेगी। दिल्ली में 4 से 15 नवंबर तक ऑड-ईवन लागू किया गया है। निजी और सरकारी स्कूलों में 50 लाख से ज्यादा मास्क बांटे गए। 300 टीमें हालात पर काबू करने के लिए लगातार जुटी हैं।

DBApp

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


Delhi pollution | Delhi-NCR Air Pollution Level Today News Updates On Delhi Air Quality


Delhi pollution | Delhi-NCR Air Pollution Level Today News Updates On Delhi Air Quality


दिल्ली के आनंद विहार इलाके में छाई धुंध।