सुल्तानपुर लोधी में संगत ले जाने को नवांशहर डिपो की बसें भेज दीं पटियाला, लोकल रूट प्रभावित, यात्री हुए परेशान




नवांशहर रोडवेज डिपो से बुधवार को कुल 20 बसें पटियाला को भेजी गईं। सुलतानपुर लोधी के लिए नवांशहर की बजाए पटियाला से बसें चलाने जाने से जहां इलाके के लोगों में रोष है। वहीं, कई रूट्स पर बसों की संख्या कम हो गई है, जिससे यात्रियों को अपनी मंजिल तक पहुंचने में काफी दिक्कत आ रही है। लोग अपनी मंजिल पर समय पर नहीं पहुंच पा रहे हैं। सरकारी बसों के रूट प्रभावित होने से प्राइवेट बसों मालिकों को फायदा होना शुरू हो गया है। प्राइवेट बसों के ड्राइवर अपनी मर्जी से बसें चलाते हैं। इन यात्रियों के साथ-साथ शहर से सुल्तानपुर लोधी को जाने वाली संगत को भी परेशानी आ रही है, क्योंकि संगत को यह भी नहीं पता चल सका है कि नवांशहर डिपो की बसों से सीधे सुल्तानपुर लोधी के लिए श्रद्धालु कब जा सकेंगे।

इधर…रेल से सिर्फ 30-40 यात्री ही जा रहे सुलतानपुर लोधी, जबकि जगह 1000 की

केंद्र सरकार की ओर से जिले के लोगों को सुल्तानपुर लोधी में दर्शन के लिए नवांशहर से सुल्तानपुर लोधी के लिए सीधी रेल गाड़ी चलाई जा रही है। स्टेशन मास्टर राम लाल कटारिया ने कहा कि नवांशहर स्टेशन से रेल शुरू होने वाले दिन पहले दिन 70 यात्री सुल्तानपुर गए थे, लेकिन इसके बाद अब तक प्रतिदिन 30 से 40 यात्री ही यात्रा कर रहे हैं। जबकि, गाड़ी में कुल एक हजार के करीब यात्री यात्रा कर सकते हैं।

जीएम बोले-सरकार की हिदायतों पर ही दी गई बसें |जीएम हरविंदर सिंह उप्पल ने कहा कि सरकार की हिदायतों के तहत ही यह बसें अन्य डिपो में भेजी गई हैं। यदि शहर में कोई दिक्कत आई तो सरकार द्वारा शहर की दिक्कत को देखते हुए नवांशहर को भी बसें दी जाएंगी। नवांशहर से भी सरकार की हिदायत पर बसें चलाई जाएंगी तथा तब जरूरत पड़ी, तो अन्य डिपुओं से बसें नवांशहर भी आ सकती हैं।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today