मौत के दूत बन सड़कों पर घूम रहे सरिये से लदे ट्रक-ट्रालियां




शहर में सरिये से लदे ट्रक और ट्रालियों के कारण आए दिन हादसे हो रहे हैं। यहां तक कि कई लोग अपनी जान तक गवां चुके हैं। बावजूद इसके ट्रैफिक पुलिस इनपर रोक लगाने में नाकाम साबित हो रही है। टांडा रोड से लेकर पठानकोट चौक तक रात-दिन रोड के किनारे सरिया लोड करके खड़े रहते हैं। रात के समय अंधेरा होने के कारण कई बार टू व्हीलर चालक सरिये से लदे ट्रक से टकरा कर घायल हो चुके हैं। जहां एक कार का शीशा तक सरिया घुसने से टूट गया था और चालक बाल-बाल बचा था तो वहीं पिछले साल भोगपुर के रहने वाला गुरमीत सिंह ट्राली में लदे सरियों की चपेट में अा गया था। 3 सरिये उनके शरीर में इस तरह से घुस गए थे कि बचना नामुमकिन हो गया था। सरियों को काटकर उन्हें अस्पताल में दाखिल करवाना पड़ा था। वह इंसाफ के लिए आजतक कोर्ट-कचहरी के चक्कर लगा रहे हैं। उधर, एडीसीपी ट्रैफिक गगनेश कुमार ने कहा कि शुक्रवार को मौके पर जाकर सरिये से लदे ट्रक अौर ट्रालियों पर कार्रवाई की जाएगी।

दोआबा चौक से पठानकोट चौक के बीच लगने वाले नाके के पास ही ट्रालियां खड़ी होती हैं। पुलिस देखकर भी इनको अनदेखा करती है, क्योंकि नाके से सारा दिन सरिये से लदे ट्रक और ट्रालियां गुजरती हैं। मगर ट्रैफिक पुलिस टू व्हीलर चालकों के चालान काटने में व्यस्त रहती है। वहीं, पठानकोट चौक में 2 नाके रोजाना ट्रैफिक को संभालने के लिए लगाए जाते हैं। मगर किसी पुलिस मुलाजिम का ध्यान दोआबा चौक की तरफ से आते ओवरलोड वाहनों की तरफ नहीं जाता है। पुलिस मुलाजिम बस बाहरी वाहनों को रोक कर चालान काटने में लगी रहती है।

विकास पुरी के बाहर लगा नाका और पास में ही खड़ी ट्रालियां। (दाएं) रोड के बीच खड़ा सरिये से लदा ट्रक। – भास्कर

सरिये से लदे वाहनों के कारण हुए हादसे दो साल में दो किलोमीटर के अंदर हुए चार हादसे

24 मार्च 2018 को भोगपुर निवासी गुरमीत सिंह बिजली का सामान खरीदकर वापस जा रहा था। रात के अंधेरे में काहनपुर के नजदीक उन्हें रोड के बीचों-बीच खड़ी सरिये से लदी ट्राली नजर नहीं आई अौर 3 सरिये उनके शरीर से आर-पार हो गए। सरिये काटकर उनको अस्पताल में दाखिल करवाया गया और आप्रेशन के बाद सरियों को बाहर निकाला गया। गुरमीत सिंह 3 महीने तक बैड पर ही रहे। गुरमीत सिंह ने बताया कि उनका केस अभी तक चल रहा है, लेकिन कोई इंसाफ नहीं मिला। जबकि उनके काफी पैसे अस्पताल में लग गए थे।

12 नवंबर 2018 को अमन नगर निवासी सतपाल शर्मा केएमवी कॉलेज के बाहर पीएनबी बैंक में पैसे जमा करवाने के लिए गए थे। वह वापस कार में आकर बैठे तो सरिये से लदा ट्रक पीछे मुड़ने लगा और सरिया उनकी कार के आगे शीशे से टकरा कर टूट गया। शीशा टूटने से सतपाल घायल हो गए थे। ट्रक चालक के खिलाफ पीसीआर को शिकायत भी दी थी।

24 मार्च 2019 को प्रीत नगर के श्री गुरुद्वारा साहिब के पास ओवरलोड तेज रफ्तार ट्रैक्टर-ट्राली की चपेट में आने से प्रीत नगर की रहने वाली जसलीन कौर (16) की मौत हो गई थी। थाना- 8 की पुलिस ने आरोपी के खिलाफ आईपीसी की धारा 304ए के तहत केस दर्ज किया था।

6 नवंबर 2019 को केएमवी कॉलेज के बाहर ट्रक में लदे सरिये के कारण प्रीत नगर निवासी रमनप्रीत गंभीर रूप से घायल हो गया। ट्रक रोड के बीचों-बीच खड़ा था और अंधेरा होने के कारण रमनप्रीत को ट्रक में लदे सरिये दिखाई नहीं दिए। रमनप्रीत की आंखों के ऊपर टांके लगे।

रोज कई पुलिस नाकों से गुजरते हैं वाहन, पर नहीं होती कार्रवाई

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


Jalandhar News – become a messenger of death truck trolleys laden with roaming streets


Jalandhar News – become a messenger of death truck trolleys laden with roaming streets