डॉक्टरों की कमी पूरी करने के लिए सेहत मंत्री को लिखा पत्र




जलियांवाला बाग मेमोरियल सिविल अस्पताल भले ही सेहत सेवा देने के लिए कई अवार्ड जीत चुका है, लेकिन वर्तमान में सरकार की अनदेखी के कारण यहां की डॉक्टरों, फार्मेसी अफसर तथा नर्सेस की कमी के कारण अस्पताल का नाम खराब हो रहा है। इस मामले को गंभीरता से लेते हुए विभाग के इंप्लाइज वेलफेयर एसोसिएशन ने सरकार का ध्यान इस तरफ दिलाया है।

एसोसिएशन के चेयरमैन पं. राकेश शर्मा ने अपनी टीम के साथ इस संदर्भ में पत्र लिख कर सेहतमंत्री को मरीजों को दरपेश आती मुश्किलों बारे बताया है। उनका कहना है कि सेहत विभाग की अनदेखी के चलते इस अस्पताल में दूर-दराज से आने वाले मरीजों को बड़ी परेशानी आ रही है। मरीज व उनके परिजन पैसा खर्च करके आते हैं लेकिन यहां पर डॉक्टर व स्टाफ की कमी के कारण बिना इलाज करवाए वापस चले जाते हैं।

अस्पताल में 10 डॉक्टरों के पद खाली : शर्मा

एसोसिएशन के चेयरमैन पं. राकेश शर्मा ने ने कहा िक यह अस्पताल समय-समय पर अपनी सेहत सेवाओं के लिए प्रांतीय ही नहीं बल्कि राष्ट्रीय स्तर अव्वल आता रहा है लेकिन पिछले कुछ दिनों से यह नाम खराब हो रहा है। उनका कहना है कि अस्पताल में 10 डॉक्टरों के पद खाली पड़े हैं। इसी तरह से 10 फार्मेसी अफसर तथा नर्सों के पद भी खाली हैं। इस मौके पर फार्मेसी अफसर संजीव वर्मा, श्याम सुंदर आदि मौजूद थे।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


Amritsar News – letter written to health minister to meet the shortage of doctors