सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा- इस जीत में अशोक सिंघल का योगदान याद करें, उन्हें भारत रत्न मिले



नई दिल्ली. वरिष्ठ भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से बेहद खुश हैं। इसके साथ ही उन्होंने विश्व हिंदू परिषद के दिवंगत नेता अशोक सिंघल को भारत रत्न से सम्मानित करने की मांग की है। सिंघल 20 साल तक विहिप के कार्यकारी अध्यक्ष रहे। सिंघल ही वो व्यक्ति थे जिन्होंने अयोध्या विवाद को स्थानीय जमीन विवाद से अलग देखा और इसे एक राष्ट्रीय आंदोलन बनाने में अहम भूमिका निभाई। स्वामी ने फैसले के बाद एक ट्वीट किया। इसमें मोदी सरकार से मांग की गई है कि सिंघल को भारत रत्न से नवाजा जाए।

स्वामी ने क्या कहा?
अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद स्वामी ने ट्वीट किया। इसमें अशोक सिंघल को याद किया। कहा, “विजय की इस बेला में हमें श्री अशोक सिंघल को जरूर याद करना चाहिए। मोदी सरकार को फौरन उन्हें भारत रत्न से सम्मानित करना चाहिए।” स्वामी और सिंघल कई वर्ष तक अयोध्या आंदोलन के लिए साथ काम करते रहे। एक समय अयोध्या विवाद को फैजाबाद के स्थानीय जमीन विवाद के तौर पर देखा जाता था। ये सिंघल ही थे जिन्होंने इसे राष्ट्रीय आंदोलन बनाने के लिए काफी मेहनत की।

पहली धर्म संसद
अयोध्या विवाद पर पहली धर्म संसद बुलाने के लिए सिंघल ने तमाम हिंदू संगठनों को एक मंच खड़ा किया। सिंघल का 2015 में 89 साल की उम्र में निधन हो गया था। वो मूल रूप से संघ के कार्यकर्ता थे जो बाद में विश्व हिंदू परिषद से जुड़े और इसे एक मजबूत संगठन बनाया। सिंघल इंजीनियर थे और उन्होंने यह पेशा अपनाने के बजाए पूरा जीवन संघ और विहिप को दिया। आपातकाल के दौरान भी उनकी सक्रिय भूमिका थी।

सुप्रीम कोर्ट का फैसला
सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को अयोध्या में विवादित जमीन पर राम मंदिर निर्माण का फैसला सुनाया। 5 जजों की संविधान पीठ ने सुबह 10:30 बजे सर्वसम्मति से अपना फैसला दिया। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि विवादित 2.77 एकड़ जमीन रामलला विराजमान को दी जाए, मंदिर निर्माण के लिए 3 महीने में ट्रस्ट बने और इसकी योजना तैयार की जाए। चीफ जस्टिस ने मस्जिद बनाने के लिए मुस्लिम पक्ष को 5 एकड़ वैकल्पिक जमीन दिए जाने का फैसला सुनाया, जो कि विवादित जमीन की करीब दोगुना है। चीफ जस्टिस ने कहा कि ढहाया गया ढांचा ही भगवान राम का जन्मस्थान है और हिंदुओं की यह आस्था निर्विवादित है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


वरिष्ठ भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से बेहद खुश हैं। (फाइल)