राष्ट्रपति बूटर्स को 20 साल की जेल, 37 साल पहले पत्रकारों-वकीलों समेत 15 को मरवाया था



पारामारिबो. सूरीनाम के राष्ट्रपति डिसाइ बूटर्स कोे 37 साल पुराने एक मामले में 20 साल जेल की सजा सुनाई गई है। पारामारिबो की कोेर्ट ने बूटर्स को 1982 में वकीलों, पत्रकारों और विपक्ष के यूनियन लीडर्स समेत 15 लोगों को गोली मरवाने का दोषी पाया है। वे फिलहाल चीन के आधिकारिक दौरे पर हैं। बूटर्स के पास सजा के खिलाफ अपील करने के लिए दो हफ्ते का समय है।

कौन हैं डिसाइ बूटर्स?
डिसाइ बूटर्स ने 1980 में सूरीनाम में तत्कालीन प्रधानमंत्री हेंक एरन के खिलाफ सैन्य तख्तापलट में अहम भूमिका निभाई थी। इसके लिए उन्हें पहले आर्मी चीफ बनाया गया और बाद में सूरीनाम का प्रमुख पद दिया गया। सैन्य राज हटने के बाद उन्होंने नेशनल डेमोक्रेटिक पार्टी (एनडीपी) का नेतृत्व किया। 2010 में चुनाव जीतने के बाद वे देश के राष्ट्रपति बने।

बूटर्स को बचाने के लिए कानून भी ला चुके हैं सांसद

बूटर्स के खिलाफ कोर्ट ने 12 साल पहले हत्या के आरोपों की जांच शुरू की। उनकी पार्टी ने सुनवाई रोकने के लिए कई कोशिशें कीं। इस दौरान बूटर्स के साथ काम कर चुके हत्या के 6 आरोपियों की मौत हो गई। 2012 में संसद ने बूटर्स को बचाने के लिए कानून भी पास कर दिया। हालांकि, कोर्ट ने कानून को गलत बताते हुए उसे निष्क्रिय कर दिया। नीदरलैंड की एक अदालत ने भी बूटर्स को 1999 में ड्रग ट्रैफिकिंग के मामले में दोषी पाया था। हालांकि, उन्होंने आरोपों से इनकार कर दिया था।

बूटर्स अपने ऊपर लगे आरोपों को नकारते हुए कह चुके हैं कि 1982 में जो भी लोग मारे गए, वे पारामारिबो के किले से भागने की कोशिश कर रहे थे। हालांकि, मानवाधिकार संगठन इसे बड़ी साजिश का हिस्सा मानते हैं।

DBApp

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


1982 में डिसाइ बूटर्स ने सैन्य तख्तापलट में अहम भूमिका निभाई थी।