सूर्य ग्रहण का पड़ेगा कई राशियों पर अच्छा और बुरा प्रभाव : पंडित मिश्रा




शिवाला बन्ना मल्ला मंदिर के कपाट भी ग्रहण के चलते बंद रहे।

भास्कर संवाददाता।नवांशहर

साल 2019 का आखिरी सूर्य ग्रहण पौष अमावस्या वीरवार को सुबह 8.17 बजे से 10.57 तक पड़ा। भारत में आसानी से दिखने वाले इस ग्रहण का पंडितों के अनुसार इसका हर राशियों पर अच्छा और बुरा प्रभाव पड़ेगा। इस ग्रहण के चलते सुबह से ही मंदिर बंद रहे। दोपहर के बाद पूजा अर्चना के बाद मंदिर खोले गए। इस खगोलीय घटना के बारे में वैज्ञानिकों का मानना है कि जब चंद्रमा सूर्य और पृथ्वी के बीच आता है। तब सूर्य ग्रहण होता है। पं. दिनेश मिश्रा व पं. भगवान दास के अनुसार भारत के अलावा ये सूर्य ग्रहण एशिया के कुछ देश जैसे अफ्रीका, आस्ट्रेलिया में भी दिखाई दिया होगा। भारत में सुबह 8 बजकर 17 मिनट से यह ग्रहण शुरू हुआ, जिसका परमग्रास 9 बजकर 31 मिनट पर हुआ। इसके साथ ही 10 बजकर 57 मिनट में यह ग्रहण समाप्त हुआ। इस बार सूर्य ग्रहण की अवधि 2 घंटे 40 मिनट और 60 सेकंड रही। सूर्य ग्रहण के 12 घंटे पहले 25 दिसंबर शाम 5.31 में सूतककाल शुरू हो गया था, जिसके चलते सूर्य ग्रहण समाप्ति के साथ सुबह 10 बजकर 57 मिनट पर समाप्त हुआ। इस ग्रहण के चलते सूतक काल में गर्भवती महिलाओं को अपने साथ कोई नुकीली चीज रखने की मनाही रही। सूतक काल में खाना, पीना, सोना, पूजा-पाठ करने की मनाही रही। मंदिर के द्वार ग्रहण खत्म होने के बाद ही खोले गए है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


Nawanshahr News – solar eclipse will have good and bad effects on many zodiac signs pandit mishra