चीन में 9 की मौत, वुहान शहर में आने-जाने से बचने की सलाह; भारत आने वाले यात्रियों की 7 एयरपोर्ट पर जांच होगी



बीजिंग/नई दिल्ली.चीन में कोरोनावायरस से अब तक 9 लोगों की मौत हो चुकी है। चीन के हेल्थ कमीशन नेमंगलवार को बताया कि देश में 440 लोग इसकी चपेट में आए। अधिकारियों ने लोगों को सलाह दीकि वे वुहान से बाहर आना-जाना बंद कर दें। 1.1 करोड़ जनसंख्या वाले शहर में लोगों को भीड़ से बचने और सार्वजनिक समारोह कम करने के लिए कहा गया है। वुहान शहर सबसे ज्यादा प्रभावित है। इधर, भारतीय नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने मंगलवार को देश के 7 हवाईअड्डों- दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, चेन्नई, बेंगलुरु, हैदराबाद और कोच्चिको चीन से आने वाले यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग करने के निर्देश दिए हैं।

इस बीमारी से बचाव के लिए सरकार द्वारा जारीएडवाइजरी के मुताबिक,हॉन्गकॉन्ग समेत चीन के किसी भी एयरपोर्ट से भारत आने वाली उड़ानों में यह घोषणा करने के लिए कहा गया है कि बुखार या सर्दी के लक्षण से ग्रस्त कोई यात्री या जो 14 दिनों के अंदर वुहान की यात्रा पर गए हो, उन्हें एयरपोर्ट पहुंचने के साथ ही अधिकारियों को इस बारे में सूचित करने के लिए कहा गया है। ताकि उनकी जांच हो सके।

लोगों को वुहान से बाहर नहीं आने-जाने की सलाह

उधर, कोरोना वायरस को लेकर

चीन जाने वाले यात्रियों के लिए ट्रेवल एडवाइजरी जारी

स्वास्थ्य मंत्रालय ने चीन में फैले कोरोना वायरस को लेकर ट्रेवल एडवाइजरी भी जारी की थी। इसमें यात्रियों से चीन की यात्रा के दौरान कुछ ऐहतियात बरतने के लिए कहा गया था। एयरलाइंस कर्मचारियों से भी आग्रह किया गया था कि वे जहाज से उतरने से पहले सेल्फ-रिपोर्टिंग फॉर्म भरने में यात्रियों की मदद करें, ताकि भरे हुए फॉर्मेट को एयरपोर्ट हेल्थ ऑर्गनाइजेशन द्वारा चेक किया जा सके।

भारत ने संक्रमण से बचने के लिए कदम उठाए

  • स्वास्थ्य मंत्रालय ने विदेश मंत्रालय से उन नागरिकों की लिस्ट मांगी है, जिन्होंने 31 दिसंबर तक चीन के वीजा के लिए आवेदन दिया है। ऐसे यात्रियों की काउंसिलिंग की जाएगी।
  • नागरिक उड्डयन मंत्रालय को निर्देश हैं कि दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, समेत सात एयरपोर्ट पर चीन से आने वाले यात्रियों का हेल्थ चेकअप किया जाए। उन्हें सबसे पहले प्री-इमीग्रेशन काउंटर्स पर ले जाया जाए, जहां थर्मल कैमरों से उनकी जांच होगी।
  • दिल्ली अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर चीन से आने-जाने वाली 5 एयरलाइंस हैं। मुंबई में दो और कोलकाता से चीन के बीच दो एयरलाइन ऑपरेट करती हैं।
  • सभी स्वस्थ यात्रियों और क्रू मेंबर्स को आगे की यात्रा की इजाजत दी जाएगी। अगर कोई यात्री या क्रू मेंबर संक्रमित पाया जाता है तो पब्लिक हेल्थ अथॉरिटी उस यात्री की जानकारी पैसेंजर लोकेटर फॉर्म से हासिल करेगी। एयरलाइन स्टाफ को ऐसे यात्रियों को इमीग्रेशन चेक प्वाइंट पर स्वास्थ्य जांच के लिए लाना होगा।
  • फ्लाइट के दौरान संक्रमण फैलने की स्थिति को ध्यान में रखते हुए केबिन क्रू को इंटरनेशनल एयर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन द्वारा निर्देशित ऑपरेशन प्रोसीजर का पालन करना होगा।

वायरस का असर कहां तक?

भारतीय मूल की शिक्षक प्रीति माहेश्वरी (45) इस एसएआरएस जैसे कोरोना वायरस की चपेट में आईं। चीन ने बताया कि इस वायरस चपेट में आने वाली प्रीति पहली विदेशी हैं। जापान, थाईलैंड और दक्षिण कोरिया में भी रहस्यमयी कोरोना वायरसके मामले सामने आए। जापान में भी अलर्ट जारी किया गया है। भारत समेत एशिया के 6 देशों ने भी वायरस को लेकर एडवायजरी जारी की। चीन से आने वाले यात्रियों की जांच के निर्देश दिए गए? अमेरिका में भी अलर्ट।

इतनी तेजी से संक्रमण क्यों?

31 दिसंबर को चीन में इस वायरस का पता चला। वुहान के सीफूड मार्केट से यह वायरस फैला था। इसके बाद मार्केट को बंद कर दिया गया। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन के मुताबिक, कोरोना वायरस भी सार्स जितना खतरनाक है। सार्स ने 2002 में चीन को अपनी चपेट में लिया था। इससे 1400 से ज्यादा लोगों की मौत हुई थी। यूनिवर्सिटी ऑफ एडिनबर्ग के प्रोफेसर मार्क वूलहाउस का कहना है कि इसके लक्षण सर्दी और जुकाम जैसे नहीं हैं और यही इसकी पहचान में परेशानी की बात है।

क्या है लक्षण?

यह नए किस्म का वायरस है। संभव है कि यह पशुओं से ही इंसानों में पहुंचा हो। यह इंसानों को संक्रमण में लेता है तो इसका पता नहीं चलता। कोरोना वायरस में तेज बुखार, ज्यादा थकान, सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द, भूख न लगना और डायरिया जैसी समस्याएं सामने आ सकती हैं।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


वुहान एयरपोर्ट पर यात्रियों की स्क्रीनिंग की जा रही।