पुलिस ने शर्जील का मोबाइल, लैपटॉप और कंप्यूटर बरामद किया, कहा- उसने मस्जिदों में सीएए-एनआरसी के बारे में भड़काऊ पर्चे बांटे



नई दिल्ली.पुलिस ने शुक्रवार को देशद्रोह के आरोप में गिरफ्तार शर्जील इमाम के बारे में नई बातों का खुलासा किया। पुलिस ने कहा कि शर्जील ने नागरिकता कानून (सीएए) और नेशनल सिटिजन रजिस्टर (एनआरसी) पर लोगों को भड़काने वाले पर्चे कई मस्जिदों में बांटे। इन पर्चों में सीएए और एनआरसी के बारे में कई भ्रामक और डराने वाली बातें लिखी थी। ऐसे कुछ पर्चे पुलिस के हाथ लगे हैं।पुलिस ने उसका लैपटॉप, कंप्यूटर और मोबाइल भी जब्त किया है।

दिल्ली और बिहार पुलिस की संयुक्त टीम ने शर्जील को मंगलवार को बिहार के जहानाबाद से गिरफ्तार किया था। दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने बुधवार को शर्जील को पांच दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया था। उस पर देश विरोधी भाषण देकर लोगों का उकसाने का आरोप है।

शर्जील का लैपटॉप कंप्यूटर दिल्ली से और मोबाइल बिहार से बरामद

पुलिस ने बताया कि उसका कंप्यूटर और लैपटॉप दिल्ली के वसंतकुंज इलाके स्थित उसके किराए के मकान से जब्त किया गया। वहीं मोबाइल फोन बिहार के जहानाबाद जिले स्थित घर से बरामद हुआ। पुलिस दो दिन से शर्जील से उसके मोबाइल के बारे में पूछ रही थी लेकिन वह नहीं बता रहा था। कड़ाई से पूछताछ करने पर उसने बताया कि अपना मोबाइल फोन उसने बिहार स्थित अपने घर पर छुपाया है। अब पुलिस को यह पता चल सकेगा कि वह वॉट्सएपऔर सोशल मीडिया से किन लोगों के संपर्क में था।

पुलिस पीएफआई के साथ शर्जील केसंबंधों की जांचकर रही

पुलिस शर्जील के इस्लामिक यूथ फेडरेशन और पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) से संबंधों के बारे में भी जांच कर रही है। उसके सभी भाषणों के वीडियो को जांच के लिए फॉरेंसिक लैब भेजा गया है। हालांकि उसे क्राइम ब्रांच ने गिरफ्तार किया था लेकिन जानकारी जुटाने के लिए स्पेशल सेल भी उससे पूछताछ कर रही है। पुलिसपता लगा रही है कि उसका वीडियो किसने बनाया ताकि उन्हें मामले में गवाह बनाया जा सके।

वीडियो में शर्जील ने कहा था- ‘सेना के लिए असम का रास्ता रोकें’
शर्जील ने 16 जनवरी को एएमयू में सभा की। इस दौरान कहा था- ‘‘क्या आप जानते हैं कि असमिया मुसलमानों के साथ क्या हो रहा है? एनआरसी पहले से ही वहां लागू है, उन्हें हिरासत में रखा गया है। आगे चलकर हमें यह भी पता चल सकता है कि 6- 8 महीने में सभी बंगालियों को मार दिया गया। हिंदू हों या मुस्लिम। अगर हम असम की मदद करना चाहते हैं, तो हमें भारतीय सेना और अन्य आपूर्ति के लिए असम का रास्ता रोकना होगा।’’

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


शर्जील इमाम को देशद्रोह के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। -फाइल