सरकारी स्मार्ट स्कूल में 8 करोड़ से बनेगी लैब, बैडमिंटन और टेबल टेनिस कोर्ट





जिला मुख्यालय के एकमात्र सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्मार्ट स्कूल के विद्यार्थियों का सर्वपक्षीय विकास हो, इसके लिए 8 करोड़ के प्रोजेक्ट के तहत स्कूल में ही नई इमारत बनने जा रही है। इसमें न केवल विद्यार्थियों को दो नए व आधुनिक तकनीक से लैस लेबोरेटरी रूम मिलेंगे, बल्कि इसके अलावा जिम्नेजियम, बैडमिंटन व टेबल टेनिस रूम आदि की सुविधा भी होगी। यही नहीं नई बनने जा रही इमारत में पार्किंग के अलावा लिफ्ट का भी प्रबंध होगा। सब कुछ सही रहा तो आगामी वित्त वर्ष में यह प्रोजेक्ट शुरू हो जाएगा, जिसे सेशन के दरम्यान ही पूरा करने का प्रशासन का लक्ष्य है। प्रिंसिपल सरबजीत सिंह का कहना है कि स्कूल प्रबंधन ने बीते समय में बहुमंजिला इमारत की प्रपोजल बनाई है। अब पता चला है कि सरकार ने इस प्रोजेक्ट को मौखिक मंजूरी दे दी है।

लैब रूम की ऊपरी मंजिल पर बनेगा बैडमिंटन हाल

स्कूल में सवा 14 सौ बच्चे…जिस स्थान पर पुराने लैब रूम स्थित हैं वहीं नई व बहुमंजिला इमारत बनाने का प्रपोजल है। पुरानी इमारत गिराकर जो इमारत बनाई जानी है उसके बेसमेंट में पार्किंग व्यवस्था भी होगी। उसके ऊपरी मंजिल पर 5 रूम बनाए जाएंगे जिन्हें क्लास रूम के रूप में प्रोयग किया जा सकता है। इससे उपरी मंजिल पर दो लैब रूम बनेंगे, जिनमें कैमिस्ट्री व फिजिक्स की लैब बनेगी। लैब रूम की ऊपरी मंजिल पर बैडमिंटन हाल बनेगा। इस हाल के बराबर ही जिम्नेजियम व टेबल टेनिस रूम बनाए जाएंगे।इसके ऊपर ऑडिटोरियम भी बनेगा। ऊपरी मंजिलों तक सीढ़ियों के अलावा लिफ्ट भी बनेगी। स्कूल में विद्यार्थियों की संख्या करीब सवा 14 सौ है। यही नहीं स्कूल में हरेक क्लास का एक-एक अंग्रेजी माध्यम का सेक्शन भी चलाया गया है। स्पेस की कमी के चलते बहु मंजिला इमारत बनाई जा रही है। बताया जा रहा है कि वित्त मंत्री की तरफ से इस प्रोजेक्ट को मंजूरी दे दी गई है जबकि इसके लिए ग्रांट जारी होने का इंतजार किया जा रहा है।

गिराई जाएगी पुरानी इमारत, बनेगी आधुनिक और बहुमंजिला इमारत

स्मार्ट स्कूल के लैब रूम थे जर्जर… स्कूल का नाम भले ही स्मार्ट स्कूल रखा गया है, मगर स्कूल की दो लेबोरेटरी की हालत बहुत खस्ता है। पुरानी लैब की इमारत भी असुरक्षित हो चुकी है। मगर प्रबंधन के पास कोई विकल्प न होने से मौजूदा ढांचे से ही काम चलाया जा रहा है। इस समस्या के निजात के लिए सरकार ने उक्त प्रोजेक्ट को मंजूरी दे दी है। जबकि, अब सिर्फ राशि जारी होने का इंतजार है। बता दें कि लैब रूम पुराने होने से हमेशा यही डर बना रहता है कि कहीं कंकरीट ही उखड़ कर नीचे न गिर पड़े। ऐसे डर भरे माहौल में विद्यार्थियों का लैब में पढ़ना व पढ़ाना मुश्किल है। यही नहीं जिला मुख्यालय का एकमात्र सरकारी स्कूल होने के बावजूद हालात यह हैं कि स्कूल में बच्चों के खेलने के लिए ढंग की ग्राउंड या इनडोर गेम्स के लिए कोई स्टेडियम नहीं है। यह कमी भी विद्यार्थियों व प्रबंधकों को खलती आ रही है, जिस वजह से स्कूल की इन जरूरतों को पूरा करने के लिए यह प्रोजेक्ट बनाया गया है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


Nawanshahr News – lab badminton and table tennis courts to be built in government smart school with 8 crores